हमारे बारे में

रोजगार सेवा छत्तीसगढ़

प्रदेश का रोजगार सेवा संगठन, रोजगार इच्छुकों को रोजगार सहायता उपलब्ध कराता है। इस हेतु मैदानी स्तर पर 27 जिला रोजगार कार्यालय समस्त जिलों में कार्यरत हैं साथ ही अनुसूचित जाति/जनजाति के आवेदकों के लिये प्रषिक्षण एवं मार्गदर्शन हेतु विशेष कार्यालय जगदलपुर में अध्यापन सह मार्गदर्शन केन्द्र के रुप में स्थापित है। CNV ACT 1959 के प्रावधानों को लागू करने के लिये प्रदेश में इसी प्रयोजन के लिये प्रवर्तन कक्ष भी स्थापित है।

इस वेबसाइट से रोजगार इच्छुक आवेदक रोजगार सेवा जैसे पंजीयन, नवीनीकरण एवं योग्यता वृध्दि का लाभ ले सकते हैं एवं नियोजक अपनी विवरणियों की प्रस्तुति तथा अपने संस्थान के रिक्तियों की जानकारी इस वेबसाइट पर लिंक के माध्यम से प्रस्तुत कर सकते हैं।

राष्ट्रीय रोजगार सेवा छत्तीसगढ़ः एक परिचय

सन् 1943-44 में सर्वप्रथम 09 रोजगार कार्यालय युद्ध में तकनीकी कर्मचारियों की भारी कमी को दूर करने के उद्देश्य से स्थापित किये गये। तत्पश्चात् 1945 में द्वितीय विश्व युद्ध उपरांत छंटनी किये गये सैनिकों एवं सेना के सहायक कर्मियों को सुव्यवस्थित तरीके से नागरिक सेवा में स्थापित करने एवं 1947 में देश के विभाजन के फलस्वरूप विस्थापित हुये लोगों के पुर्नवास का दायित्व संगठन को सौंपा गया ।

रोजगार सेवा की बढ़ती हुई लोकप्रियता के कारण शासन ने इसका कार्यक्षेत्र 1948 में सभी श्रेणियों के आवेदकों के लिये खोल दिये परिणामस्वरूप रोजगार कार्यालय एक पुर्नवास एजेंसी से बढ़कर अखिल भारतीय नियोजन एजेंसी का रूप ले लिया। 01 नवम्बर 1956 को शिवाराम समिति की सिफारिशों के आधार पर रोजगार सेवा के दैनिक प्रशासन राज्य सरकारों को सौंप दिया गया। छत्तीसगढ़ राज्य की स्थापना उपरान्त रोजगार कार्यालय अपने नये नाम जिला रोजगार एवं स्वरोजगार मार्गदर्शन केन्र्द के रूप में जाना जा रहा है।

प्रदेश में रोजगार सेवा 27 जिला रोजगार एवं स्वरोजगार मार्गदर्शन केन्र्दों, अनुसूचित जाति एवं जनजाति हेतु संचालित 1 अध्यापन सह-मार्गदर्शन केन्र्द-जगदलपुर, 3 प्रवर्तन कक्षों (रायपुर बिलासपुर, जगलदलपुर) एवं 1 विशेष रोजगार कार्यालय (निःशक्तजनों के नियोजन हेतु) के माध्यम से रोजगार सहायता के इच्छुक आवेदकों को निरन्तर उत्कृष्ट सेवा प्रदान कर रही है।

रोजगार सेवा के उद्देश्य एवं कार्य :-

  1. रोजगार सहायता इच्छुक आवेदकों का पंजीयन एवं नवीनीकरण।
  2. नियोजकों से प्राप्त रिक्तियों की अधिसूचना पर आवेदकों का प्रस्तुतीकरण एवं नियुक्ति।
  3. रोजगार इच्छुकों को व्यावसायिक मार्गदर्शन एवं रोजगार परामर्श प्रदान करना।
  4. निजी क्षेत्र के प्रतिष्ठानों में नियोजन हेतु प्लेसमेन्ट कैम्प का आयोजन करना।
  5. सैन्य बलों में भर्ती पूर्व प्रशिक्षण।
  6. युवा क्षमता विकास योजना का क्रियान्वयन।
  7. ट्रेकिंग के माध्यम से कार्यालय में पंजीकृत आवेदकों के रोजगार स्थिति की जानकारी प्राप्त करना।

प्लेसमेन्ट कैम्प/रोजगार मेला

  • संचालनालय रोजगार एवं प्रशिक्षण (प्रशिक्षण पक्ष) नया रायपुर...
  • संचालनालय रोजगार एवं प्रशिक्षण (प्रशिक्षण पक्ष) नया रायपुर...